भारत की रूसी कोच ने दी, ओलंपिक के रेफरी को मात…..

sddd

जहां भारतीय खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक 2020 में देश का नाम रोशन कर रहे। वहीं किसी एक की गलती की वजह से भारत को शर्मिंदा होना पड़ा है। कहते हैं गलती को एक करता है लेकिन नाम उससे जुड़े हर इंसान का खराब होता है। कुछ ऐसा ही हुआ गुरुवार की शाम जहां भारत के रुसी कोच ने मैच के रेफरी को दी पटखनी।

आपको बता दें कि गुरुवार को भारतीय पहलवान दीपक पूनिया, सेन मरीनो के पहलवान नाजिम मेलेस से हार गए। हालांकि यह मुकाबला खेल के आखिरी समय तक दमदार रहा। लेकिन दीपक को 3-1 से हार का सामना करना पड़ा। दीपक की इस हार पर उनके रूसी कोच मुराद गेदारोव नाराज हो गए और उन्होंने रेफरी को उनके कमरे में जाकर पटखनी दे दी।

उनकी इस अनुशासनहीनता और असभ्यव्यवहार पर इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी में उनका अक्रेडेशन खत्म कर दिया।

आपको बता दें कि वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन ने इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी के साथ-साथ रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया से भी शिकायत की है। जिसकी वजह से रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने माफी मांगी है। वही रूसी कोच की सारी सेवाएं खत्म कर डाला है।

वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन ने इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी से शिकायत करने के साथ-साथ कहा कि रूस के गेदारोव की यह पहली गलती नहीं है, उन्होंने पहले भी ऐसे किया है और उन्हें वार्निंग देकर छोड़ा गया था।

वो ओलम्पिक में बतौर खिलाड़ी भी ऐसा ही करते थे। 2004 के एथेंस ओलम्पिक में उन्हें अपने विरोधी खिलाड़ी पर मैट के बाहर हमला करने की वजह से निकाल दिया गया था। हालांकि बीजिंग ओलम्पिक्स में गेदरोव ने एक मेडल अपने नाम जरुर किया था।

कोच की इस हरकत ने रेसलिंन फेडरेशन ऑफ इंडिया को शर्मिंदा किया है। जिसके लिए रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, इंटरनेशनल ओलंपिक कमिटी के साथ-साथ वर्ल्ड रेसलिंग फेडरेशन से भी माफी मांगता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top