बुढ़ापे में अपनी पत्नी को पीठ पर लादे बुजुर्ग ने कहा- ‘भिखारी नहीं हूं, मजबूर हूं’

gf

बुढ़ापे में अपनी पत्नी का इलाज कराने के लिए एक बुजुर्ग आदमी पीठ पर अपनी पत्नी को लेकर मांग रहा है,भीख। जी हां, यह मामला जितना ही गंभीर है उतना ही भावुक कर देने वाला भी है।

आपको बता दें कि इस पूरे मामले में 71 वर्षीय बुजुर्ग अपनी पीठ पर अपनी बीमार पत्नी को लादे हुए, लोगों से भीख मांगने पर मजबूर है। बुजुर्ग से बात करके पता चला है कि उसकी पत्नी को पैरों में बीमारी है, जिसकी वजह से चल नहीं सकती और जिसके इलाज के लिए डॉक्टर ने हजारों रुपए का खर्च बताया है।

हालांकि बुजुर्ग राम प्रवेश ने एफसीआई (फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया) में अपने जीवन के 28 साल दिए हैं। वह वहां चावल की बोरियों को अपनी पीठ पर लादकर एक जगह से दूसरी जगह ले जाता था। लेकिन इस वक्त वह अपनी पत्नी को अपने पीठ पर लादे हुए हैं यह उसकी मर्जी नहीं मजबूरी है।

बुजुर्ग ने बताया कि उसे अचानक एक दिन अचानक काम से निकाल दिया गया और उसे उसकी वजह भी नहीं बताई गई। यहां तक कि उसे उसकी जीवन भर की मेहनत की कमाई जो कि उसके मुताबिक ₹8 लाख है, वह भी नहीं दिए गए।

इस मामले में उसने अपने जिले की कलेक्टर से भी मदद मांगी, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। हर रोज 8-10 घंटे तक पीठ पर चावल की बोरियां ढोने वाला शक्स आज मजबूरीवश अपनी जीवन संगनी के भार को पीठ पर ढो रहा है।

भीख मांगने पर राम प्रवेश कहते हैं कि “उन्हें भीख मांगना बिल्कुल पसंद नहीं है”। लेकिन अपनी पत्नी की बीमारी को देखते हुए, उसका इलाज कराने के लिए हजारों रुपए की आवश्यकता है। जिसकी वजह से उन्हें लोगों से मजबूरन भीख मांगना पड़ रहा है। अपना पूरा जीवन संघर्ष के साथ बिताने के बावजूद बुढ़ापे में भीख मांगना राम प्रवेश उनकी पत्नी के लिए बहुत दुख दायक है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top