आखिर दिन में क्यों जलाए जाते हैं बाइक के हेड लाइट…

vk

हम सभी जानते हैं कि सड़क पर चलने वाले वाहनों में हेडलाइट व अन्य साइड लाइट लगी होती है, जिसका उपयोग वाहन चालक रात के समय करता है। ताकि उसे सड़क पर चल रहे अन्य वाहन आसानी से नजर आ सके। लेकिन क्या आपने कभी वाहनों की हेडलाइट को दिन में जलते हुए देखा है, अगर नहीं देखा तो अब देखेंगे। जी हां, हमारे यातायात मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में एक निर्देश जारी किया है। जिसके अंतर्गत सड़क पर चल रहे दुपहिया वाहनों में दिन में भी हेडलाइट चलना अनिवार्य है।

आपको बता दें कि यह निर्देश भारत में बढ़ते सड़क दुर्घटना को कम करने के नजरिए से लिया गया है। भारत में हर साल 5 लाख से ज्यादा सड़क दुर्घटना का मामला सामने आता है। इस घटना में तकरीबन डेढ़ लाख लोगों की मौत हो जाती है, वहीं से ढाई से तीन लाख लोग दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं। इन दुर्घटनाओं से भारत की जीडीपी पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है और देश को 2% की हानि पहुंचती है। वहीं वाहनों की तुलना में सबसे ज्यादा दुर्घटना दुपहिया चालकों की होती है, दूसरे स्थान पर कार, जीप और टैक्सी वहीं तीसरे स्थान पर ट्रक टेंपो और बड़ी वाहने आती है। इन सभी घटनाओं में मरने वालों की सबसे ज्यादा संख्या (35%) दुपहिया वाहनों में आती है। Lights on bikes can't be turned off | Deccan Herald

इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने दिन में भी हेड लाइट जलाकर वाहन चलाने का आदेश दिया है। सरकार के निर्देश का पालन करते हुए बाइक कंपनियां भी अब अपने बीएस4 इंजन वाले वाहनों में हेड लाइट को ऑटोमेटिक कर दिया है। यानी आप जब भी इंजन स्टार्ट करेंगे हेडलाइट अपने आप ऑन हो जाएगी और जब बंद करेंगे तो लाइट ऑफ हो जाएगी। वाहन चालक चाहकर भी हेड लाइट को बंद नहीं कर पाएंगे। इस हेडलाइट का सबसे ज्यादा फायदा उस वक्त होता है, जब धूल, बरसात और कोहरे की वजह से सड़क पर दिन में भी कुछ नजर नहीं आता। तभी हेडलाइट सामने से आने वाले वाहनों को आपके आने का संकेत देगी, वही आपको भी सहायता प्राप्त होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top