समुद्र की गहराइयों में मिली, दुनिया की सबसे बूढ़ी मछली…

mb

समुंद्र, जो ना जाने अपने अंदर कितनी रहस्यो और जीव-जंतुओं का छुपा कर रखता है। लेकिन अचानक कभी-कभी उन्हीं में से कुछ रहस्यों को हमारे सामने छोड़ देता है, जिसे देखकर हम अचंभित रह जाते और यह समझ नहीं पाते कि इस समुंद्र की गहराई आखिर कितनी है और यह क्या – क्या अपने अंदर छुपा कर बैठा है।

एक ऐसी खबर सामने आई है, मेडागास्कर से जहां यह दावा किया जा रहा है कि उन्हें समुद्र की गहराइयों से सबसे बूढ़ी मछली मिली है। जो लगभग 42 करोड साल की है और अब तक जिंदा है। हालांकि इस मछली को वैज्ञानिकों ने अपने कब्जे में कर लिया है ताकि वह उस पर रिसर्च कर सकें। आपको बता दें कि इस मछली की प्रजाति को “सीउलैकैंथ” कहते हैं। साथ ही इस मछली के चार पैर भी होते हैं। इस मछली को शार्क हंटर्स ने समुद्र की गहराइयों से खोज कर निकाला है, वह भी जिंदा।

आपको बता दें कि वैज्ञानिकों ने मछली की इस प्रजाति को विलुप्त मान लिया गया था। वैज्ञानिकों का कहना था कि डायनासोर के साथ-साथ इन मछली का भी अंत हो चुका है। लेकिन इतने सालों बाद इस मछली के जिंदा मिलने से वैज्ञानिकों के बीच में हलचल मच गई है।

आपको बता दें कि यह मछली समुद्र में 300 से 500 फीट गहराई में रहती है। लेकिन वैज्ञानिकों के लिए अब चिंता का विषय यह है कि इस मछली के जिन्दा होने से कहीं समुंद्र के जीव जंतुओं पर इसका बुरा प्रभाव ना पड़े। हालांकि वैज्ञानिक इस मछली पहले से ही शोध कर रहे थे पर मछली के जिंदा मिलने से उनके रिसर्च में काफी सहायता होगी। साथ ही कुछ ऐसे अनकहे और अनसुने रहस्यो का पता चलेगा जिसके बारे में आप और हम पहले से नहीं जानते होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top