नीरज की ऐतिहासिक जीत पर, उन्हें खुद नहीं था विश्वास…

nd

टोक्यो ओलंपिक 2020 में कई देशों ने हिस्सा लिया। जहां अनेक खिलाड़ियों ने अपने शानदार प्रदर्शन से देश के लिए पदक हासिल किया। लेकिन नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक 2020 के आखिरी दिन में अपने शानदार प्रदर्शन से भारत देश का नाम रोशन किया और स्वर्ण पदक अपने नाम दर्ज किया।

ओलंपिक खेलों में यह भारत का दूसरा व्यक्तिगत स्वर्ण पदक है। इससे पहले 2008 के ओलंपिक में अभिनव बिंद्रा ने निशानेबाजी में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक अपने नाम हसिल किया था, जहां व्यक्तिगत पदक में भारत का पहला पदक था। वही नीरज चोपड़ा का यह स्वर्ण पदक, भारत के लिए एथलीट में पहला स्वर्ण पदक है बल्कि पहला पदक भी है। नीरज चोपड़ा ने अभिनव बिंद्रा की जीत के 13 साल बाद ऐतिहासिक जीत अपने नाम दर्ज की है।

आपको बता दें कि इस प्रतियोगिता में भारतीय खिलाड़ियों के साथ पाकिस्तानी खिलाड़ी अरशद नदीम भी थे। जिन्होंने इस खेल में 5वां स्थान प्राप्त किया और वह अपने देश को पदक दिलाने से चूक गए।

नीरज चोपड़ा ने पहले प्रयास में 87.03 मीटर लंबा भाला फेंका और खेल पर दूसरे स्थान पर रहकर इसकी शुरुआत की थी, वही जर्मनी के जूलियन वेबर का करियर का सर्वश्रेष्ठ 85.30 मीटर भाला फेंक था। पाकिस्तान के अरशद नदीम ने पहले प्रयास में 82.40 मीटर लंबा भाला फेंका। नदीम ने दूसरे प्रयास में फाउल होने के बाद तीसरे प्रयास में 84.62 मीटर लंबी भाला फेंक कर पदक की दौड़ में अपना स्थान बनाए रखा। चौथे और पांचवें प्रयास में, वह क्रमशः 82.91 और 81.98 मीटर की दूरी फेंकने में सफल रहे। लेकिन छठे प्रयास में फाउल गया और उन्हें पांचवें स्थान पर संतोष करना पड़ा। पर मुकाबला के खत्म होने पर नदीम में ट्विटर पर नीरज चोपड़ा को जीत की बधाई दी और उन्हें अपना आइडल भी बताया और पाकिस्तान से माफी मांगी।

स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने शनिवार को ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचने के बाद कहा कि, ”यह अविश्वसनीय लग रहा है”। विश्वास नहीं हो रहा। यह पहली बार है जब भारत ने एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीता है इसलिये मैं बहुत खुश हूं। हमारे पास अन्य खेलों में ओलंपिक का एक ही स्वर्ण है। उन्होंने कहा, ”एथलेटिक्स में यह हमारा पहला ओलंपिक पदक है। यह मेरे और देश के लिये गर्व का क्षण है”। क्वालीफिकेशन राउंड में मैंने काफी अच्छा थ्रो किया था इसलिये मैं जानता था कि मैं फाइनल में बेहतर कर सकता हूं। ”लेकिन मैं नहीं जानता कि यह स्वर्ण होगा,मैं बहुत खुश हूं”।

नीरज चोपड़ा की ऐतिहासिक जीत से ओलंपिक में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय बन गये जो देश का ट्रैक एवं फील्ड स्पर्धा में भी पहला पदक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top