मैदान के बाहर रहकर दिलाई, हॉकी टीम को ऐतिहासिक जीत

ti

5 अगस्त 2021 को टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारतीय हॉकी टीम ने दिखाया अपना शानदार प्रदर्शन और किया कांस्य पदक को अपने नाम। ओलंपिक खेलों में हॉकी ने 41 साल बाद कोई पदक अपने नाम किया है। जो हम सब के लिए गर्व की बात है। लेकिन इसके अलावा एक और बात है, जिस पर हमें ध्यान देना चाहिए। हम सब जानते हैं कि हर खेल के अपने स्पॉन्सर होते हैं, जो खेल और खिलाड़ियों पर होने वाले खर्चे का वहन करते हैं। क्या आप जानते हैं भारतीय हॉकी टीम का स्पॉन्सर कौन है?

साल 2018 में जब “सहारा कंपनी” ने हॉकी के स्पॉन्सरशिप को छोड़ दिया। तब अपने समय में दून स्कूल के हॉकी टीम में गोलकीपर रह चुके, उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने इसकी बागडोर संभाली, लेकिन आज तक इसकी भनक और लोगों को नहीं लगने दी। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को यह सलाह बीजू जनता दल के राज्यसभा सदस्य दिलीप टिर्की ने दी।

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने 140 करोड में भारतीय हॉकी महिला एवं पुरुष टीम की स्पॉन्सरशिप 5 वर्षों के लिए अपने हाथ में ली। जिसकी वजह से भारतीय हॉकी टीम को कई सफलताएं प्राप्त हुई है।

हॉकी के प्रति जितना लगाव व समर्पण ओडिशा में देखने को मिला है, उसने पंजाब को भी पीछे छोड़ दिया है। आपको बता दें कि ओडिशा 2023 में पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप की मेज़बानी करेगा। इसके लिए राज्य सरकार भुवनेश्वर व राउरकेला में 120 करोड़ रुपये की लागत से विश्व स्तरीय सुविधायुक्त स्टेडियम बना रही है। करीब 20 हज़ार दर्शकों के बैठने की क्षमता वाला यह देश का सबसे बड़ा हॉकी स्टेडियम होगा। ओडिशा सरकार ने कहा है कि इस विशाल स्टेडियम का नाम स्थानीय आदिवासी नेता बिरसा मुंडा के नाम पर रखा जाएगा।

नवीन पटनायक ने राज्य में कई स्पोर्ट्स होस्टल बनाये हैं, जहां हजारों लड़के-लड़कियों को हॉकी का प्रशिक्षण मिल रहा है। अब वह 200 करोड़ रुपये की लागत से 20 हॉकी ट्रेनिंग सेंटर बनाये जा रहे हैं, जहां नये खिलाड़ियों को एस्ट्रो टर्फ पर अभ्यास करने की सुविधा मिलेगी। टोक्यो के मैदान में कांस्य पदक जीतने के तुरंत बाद नवीन पटनायक ने वीडियो लिंक के जरिये टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह और बाकी खिलाड़ियों से बात करते हुए उन्हें बधाई देने के साथ ही, ये भरोसा भी दिलाया था कि मैं आपके साथ हूँ और हॉकी इंडिया के लिए आगे और भी बहुत कुछ करना अभी बाकी है। उन्होंने 17 अगस्त को भुवनेश्वर में हॉकी टीम के स्वागत के लिए भव्य आयोजन भी रखा है। भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने इस ऐतिहासिक जीत का श्रेय नवीन पटनायक जी को दिया है। उन्होंने कहा है कि नवीन पटनायक जी के सहयोग के बिना यह जीत नामुमकिन थी। आज देश क्रिकेट की ओर अपना ध्यान दें रहा है, वहीं नवीन जी ने हॉकी के ऊपर ध्यान दिया जिसके लिए हम हमेशा उनकी शुक्रगुजार रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top