पाकिस्तान की एक और हरकत LOC के पास भारतीय सीमा में फिर घुसा ड्रोन, जवानों ने की फायरिंग |

har p

कुछ समय पहले ही भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास अरनिया सेक्टर में एक संदिग्ध पाकिस्तानी ड्रोन नजर आया था। इस ड्रोन के देखे जाने के बाद बीएसएफ के जवानों ने इस ड्रोन पर फायरिंग भी की थी, लेकिन इसे गिरा नहीं पाए थे। बॉर्डर पर ज्यादा अँधेरा होने के कारण यह ड्रोन दिखाई नहीं दे पाया और चला गया था। लेकिन एक बार फिर एक और नया ड्रोन भारत की सीमा में देखा गया है।

अखनूर के पालनवाला सेक्टर में नजर आया ड्रोन

इस बार जो ड्रोन दिखाई दिया है यह अखनूर के पालनवाला सेक्टर में नजर आया है। यह बुधवार की देर रात अरनिया और पालनवाला सेक्टर के पास देखा गया है। यह दोनों ही जम्मू जिले में आते हैं। खबर के अनुसार पालनवाला सेक्टर के पास तैनात जवानों को एक संदिग्ध पाकिस्तान Quadcopter नजर आया। यह एक ड्रोन था, जो एलओसी के पास भारतीय सीमा के अंदर 150 मीटर तक घुस आया था। जैसे ही सेना द्वारा इस ड्रोन पर नजर गयी उसपर फायरिंग शुरू कर दी, लेकिन फायरिंग होते ही यह मुड़कर पाकिस्तानीबॉर्डर में जा घुसा इसे निचे नहीं गिराय जा सका।

बताया जा रहा है की इस तरह के ड्रोन का इस्तेमाल सीमा पर निगरानी के लिए किया जाता है। एक अधिकारी ने जानकारी दी है कि यह घटना बुधवार की रात करीब 9.10 PM की है। ड्रोन के इस तरह इ अंदर घुस आने के बाद जवानों ने इलाके की तलाशी भी ली लेकिन वहां कुछ भी नहीं मिला है। बता दें कि पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान ऐसे ड्रोन का इस्तेमाल जम्मू कश्मीर की सीमा में छिपे अपने आतंकियों को हथियार पहुंचाने के साथ साथ उन्हें पैसे पहुंचाने के काम में भी लेता है। माध्यम से ड्रग्स भी पहुंचाया जाता है।

27 जून को किये थे धमाके

आपको बता दे की इसके पहले 27 जून को जम्मू स्थित भारतीय वायुसेना स्टेशन पर ड्रोन के जरिए हमला किया गया था, जिसमे 2 धमाके किये गये थे। इन धमाकों में 2 जवान जख्मी भी हुए थे। जम्मू के कई स्थान पर इस तरह के ड्रोन देखे जाने की बात सामने आयी है। कालूचक, रतनूचक, कंजूवानी और सुंजूवान स्थित मिलिट्री स्टेशन पर ड्रोन के नजर आने की घटनाएं भी हुए है। लेकिन यहां किसी तरह का हमला नहीं क्या गया। वर्तमान में सेना द्वारा ज्यादा सख्ती किये जाने के बाद सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तान समर्थित आतकंवादियों की मदद के लिए ड्रोन के जरिए हथियार, ड्रग्स, और पैसे पहुंचाने के लिए प्रयास किये जाते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back To Top